Tuesday, October 4, 2022
Homeक्रिकेटआईपीएल में लड़की के साथ पकड़ा गया ये शख्स अब लाहौर में...

आईपीएल में लड़की के साथ पकड़ा गया ये शख्स अब लाहौर में बेच रहा जूते

वर्ष 2000 से 2013 के बीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी अंपायरिंग का जलाव दिखाने वाले असद रऊफ आयसीसी के एलीट पैनल का हिस्सा रहे है। उन्होंने इस दौरान कुल 49 टेस्ट मैच, 98 वनडे मैच और कुल 23 T20 मैचों में अंपायरिंग की है। बता दे असद रऊफ ने पाकिस्तान के लाहोर मे लांडा बाजार में कपड़े और जूतों की दुकान खोली है।

बता दें की बीसीसीआय ने असद रऊफ को वर्ष 2016 में पांच साल के लिए बैन कर दिया था। रऊफ पर आयपीएल वर्ष 2013 के दौरान सट्टेबाजों से महंगे तोहफे स्वीकार करने और आयपीएल मैच पर सट्टा लगाने का आरोप लगा था।इससे पहले वर्ष 2012 में असद रऊफ पर मुंबई की एक मॉडल ने यौन शोषण का आरोप लगाया था।

उस समय मॉडल ने पुलिस के पास शिकायत में कहा था की, असद रऊफ ने शादी का वादा करते हुए छह महीने तक उनका यौन शोषण किया है। इस मामले के सामने आने के बाद उन्हें आयपीएल से बाहर कर दिया गया था। असद रऊफ ने दस वर्ष पहले ही इन आरोपों का खंडन कर दिया था।

अंपायरिंग से पहले असद रऊफ वर्ष 1977 से लेकर 1991 तक पाकिस्तानी घरेलू क्रिकेट में शामिल थे। वर्ष 1998 में वह एक फर्स्ट क्लास अंपायर बने। वर्ष 2000 में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच खेले गए वनडे मैच में अंपायरिंग का मौका दिया। इसके बाद वर्ष 2004 में उन्हें आंतरराष्ट्रीय अंपायर पॅनल में शामिल कर लिया गया।

असद रऊफ को अब क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नहीं है। पूर्व पाकिस्तानी अंपायर असद राऊफ ने बताया की वह पाकिस्तान के लाहोर मे लंदा बाजार में जूतों और कपड़ों की दुकान चलाते हैं। उन्होंने कहा की मैंने अपने करियर काफी मैचों में अंपायरिंग की, अब करने को कुछ नहीं रह गया है। वर्ष 2013 के बाद से क्रिकेट से मेरा नाता तूट गया है।

असद रउफ आगे कहते है की, जब एक बार मै जिस का को छोड देता हूं तो पूरी तरह छोड़ देता हूं। मैं जो भी काम करता हूं उसमे शीर्ष तक पहुंचना मेरी आदत है। मैंने क्रिकेट खेला और फिर जब मैंने अंपायर के रूप में शुरुआत की, तो वहां भी मै शीर्ष तक पहुंचा। अब बतौर दुकानदार मुझे पूरी उम्मीद है की यहां भी मैं शीर्ष तक जाऊंगा।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular