Wednesday, October 5, 2022
Homeअज़ब-गज़बक्या है झारखंड की तैमारा घाटी का रहस्य जहां समय आगे चला...

क्या है झारखंड की तैमारा घाटी का रहस्य जहां समय आगे चला जाता है

झारखंड राज्य मे रांची-जमशेदपुर मार्ग पर स्थित तैमारा घाटी इन दिनों रहस्‍यमई घटना को लेकर चर्चा में है। चर्चा की वजह सभी को हैरान कर देने वाली है। आपकी जानकारी के लिए बता दे झारखंड राज्य मे रांची-जमशेदपुर मार्ग पर तैमारा घाटी से गुजरते समय आप डेढ़ दो साल आगे चले जाते हैं। तैमरा घाटी से गुजरते समय अचानक से मोबाइल का समय बदल जाता है और 2022 के बदले वर्ष 2023 या वर्ष 2024 मे चले जाते हैं।

तैमारा घाटी के स्थानीय लोगों का कहना है की अक्सर यहा ऐसा देखने को मिलता है। यहा से गुजरने वाले लोगों के मोबाइल की घड़ी का समय अपने आप बदल जाता है। और ऐसा कुछ समय के लिए नही जबकी आपके मोबाईल का समय एक से दो साल आगे बढ़ जाता है। समय के साथ साथ तारीख में भी परिवर्तन हो जाता है। फिलहाल तैमारा घाटी इस रहस्‍य को लेकर चर्चा में है।

इस चीज का प्रभाव जामचुआ इलाके मे कस्तूरबा बालिका आवासीय विद्यालय मे भी देखने को मिला है। विद्यालय की प्रिंसिपल स्वर्णिमा टोप्पो ने बताया की, समय मे अपने आप बदलाव के कारण कस्तूरबा बालिका आवासीय विद्यालय के बच्चों और स्टाफ अपना ऑनलाइन अटेंडेंस लगा रहे है तो वर्ष 2022 मे लगाया हुआ अटेंडेंस वर्ष 2024 मे बताता है। समय बदलने के बाद अटेंडेंस के साथ साथ कई तरह के एप्प भी काम नहीं कर रहे है।

तैमारा घाटी के रहस्य के बारे में पर्यावरणविद नितीश प्रियदर्शी ने हालही मे अपनी फेसबुक पर इसकी जानकारी दि है। तैमारा घाटी में स्ट्रीट लाइट भी कपकपाने लगती है। तैमारा घाटी मे ये भी महसूस किया गया है की वहा से गुजरने वाले वाहनों को जैसे कोई पीछे से खींच रहा हो। ऐसे में यहा पर कई अपघात भी हो चुके है।

रिपोर्ट्स के अनुसार तैमारा घाटी परिसर मे चुम्बकीय विकिरण के कारण मोबाइल और अन्य इलेक्ट्रॉनिक वास्तुओ पर प्रभाव दालती है। स्थानीय लोग ऐसा भी कहते है की इस जगह का काल से कोई नाता है। इस रहस्यमई घटना के पीछे का सच कोई नहीं जनता है। क्या ये ताऱीखें भविष्य में होने वाली किसी घटना का संकेत दे रही है। बता दे वैज्ञानिक तैमारा घाटी पर अपनी संशोधन कर रहे है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular