Wednesday, October 5, 2022
Homeमनोरंजनबॉलीवुड के ये 5 सितारें दुनिया छोड़ने से पहले थे कंगाल, कुछ...

बॉलीवुड के ये 5 सितारें दुनिया छोड़ने से पहले थे कंगाल, कुछ ऐसे गुजरा आखिरी समय

फिल्मों के कलाकारों के पास काफी पैसा होता है वो लोग बड़े स्टार होते हैं, लेकिन कुछ कलाकार ऐसे रहें हैं जिनके पास अपने आखिरी समय में एक भी रुपया नहीं था और उन्होंने दुनिया को काफी ग़रीबी में छोड़ा और आज हम आपको कुछ ऐसे ही कलाकारों के बारे में बताएंगे.

भगवान दादा:

भगवान दादा का असली नाम भगवान अबाजी पांडव था। भगवान दादा ने ‘क्रिमिनल’ फिल्म से डेब्यू किया था। वर्ष 1951 में भगवान दादा ने फिल्म ‘अलबेला’ का निर्माण किया। फिल्म इंडस्ट्री मे भगवान दादा ने खूब संपत्ती कमाई। एक समय भगवान दादा के पास सात कारे थी। भगवान दादा के जीवन मे एक समय ऐसा भी आया जब उनकी फिल्में कुछ खास कमाल नहीं कर पा रही थी। फिल्म निर्माण की वजह से भगवान दादा को बहुत नुकसान हुआ कारणवश उन्हें उनका बंगला और कारें बेचनी पड़ी थी। आर्थिक स्थिति इतनी खराब हो गयी थी की जीवन के आखरी समय मे भगवान दादा को एक चॉल में गुजारा करना पड़ा था। 4 फरवरी 2002 को हार्ट अटैक से भगवान दादा का निधन हो गया था।

मीना कुमारी:

महजबिन बानो जिन्हे हम फिल्मी दुनिया मे मीना कुमारी के नाम से जानते है। मीना कुमारी खूबसूरती के साथ अभिनय से भी भरपूर थी। जितनी शोहरत मीना कुमारी ने अपने करियर में पाई उनका व्यक्तिगत जीवन उतना ही दुखों से भरा था। मीना कुमारी उस दौर की सबसे ज्यादा फीस लेने वाली अभिनेत्री थी। मीना कुमारी शराब की लत में डूब चुकी थी। मीना कुमारी का आखरी समय काफी मुश्किलों से भरा था। बता दे ‘पाकीजा’ फिल्म रिलीज होने के कूछ दिनो बाद ही मीना कुमारी बुरी तरह बीमार पड़ गई थी। उस समय मीना कुमारी के पास इलाज कराने तक के पैसे नही थे। और फिर 31 मार्च 1972 को मीना कुमारी ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

ए के हंगल:

ए के हंगल बॉलीवुड के ऐसे अभिनेता है जिन्होंने 50 वर्ष की उम्र में बॉलीवुड में डेब्यू किया था। बता दे वर्ष 1970 से वर्ष 1990 तक ज्यादातर फिल्मो में पिता या फिर लीड एक्टर्स के करीबी रिश्तेदार का किरदार ए के हंगल ने ही निभाया है। ‘शोले’ फिल्म के रहीम चाचा हो या फिर ‘इतना सन्नाटा क्यों है भाई?’ ये डायलॉग हो ए के हंगल की पहचान बन गया थी। मगर ए के हंगल अपने आखरी दिनो में बहुत ही तंगी के दौर से गुजरे थे। जीवन के आखरी समय मे ए के हंगल किराए के घर मे थे। यहा तक की उनके पास इलाज कराने तक के पैसे नही थे। ऐसे मे अभिनेता अमिताभ बच्चन ने ए के हंगल की मदत की थी और ए के हंगल के इलाज के लिए 20 लाख रुपए दिए थे। 26 अगस्त 2012 को ए के हंगल का निधन हो गया। के रूप में याद करते है।

परवीन बॉबी:

अभिनेत्री परवीन बॉबी ने अपने फिल्मी करियर के दौरान खूब नाम और शोहरत हासिल की थी। परवीन बॉबी का फिल्मी करियर बहुत अच्छा रहा है। उन्होने एक से बढकर एक सुपरहिट फिल्मे दि है। अमिताभ बच्चन और परवीन बॉबी की जोड़ी उस समय खूब पसंद की गयी थी। परवीन बॉबी ‘दीवार’, ‘नमक हलाल’, ‘अमर अकबर एन्थोनी’ जैसी हिट फिल्मों में काम कर चुकी है। लेकिन इसके बावजूद परवीन बॉबी अपने आखरी दिनो बुरे दौर से गुजरना पड़ा था। कहा जाता है की परवीन बॉबी डिप्रेशन में चली गई थी और उन्होंने लोगों से मिलना तक बंद कर दिया था। बता दे की 22 जनवरी 2005 को अचानक ही मुंबई के फ्लैट में परवीन बॉबी का मृत हालत मे पाई गयी। परवीन बॉबी अपने आखरी समय में मानसिक बीमारी से जूझ रही थी।

भारत भूषण:

अभिनेता भारत भूषण ने अपने दौर में खूब संपत्ती और नाम कमाया था। गौरतलब है की उसमें से उन्होने इस कमायी संपत्ती मे से कुछ भी नही बचाया। मीना कुमारी से भारत भूषण के अफेयर के किस्सो के चलते भारत भूषण के पास फिल्मे आनी बंद हो गई थी। इसके चलते उन्हें कंगाली के दौर का सामना करना पड़ा था। मजबूरी मे भारत भूषण ने एक मूवी स्टूडियो में वॉचमैन का काम भी किया। भारत भूषण की मौत भी किराए के घर में ही हुई। प्रोड्यूसर बनने के बाद भारत भूषण की शुरूआती दो फिल्म ‘बरसात की रात’ और ‘बसंत बहार’ फ्लॉप हो गयी थी। दो दो फिल्म फ्लॉप होने की वजह से भारत भूषण कर्ज में डूब गए थे। आर्थिक तंगी के चलते भारत भूषण तंगहाली में ही इस दुनिया को छोड़ गए.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular