Thursday, September 29, 2022
Homeखेल कूदपिता चलाते थे रिक्शा अब बेटे ने जीता स्वर्णपदक, जाने अचिंता शेउली...

पिता चलाते थे रिक्शा अब बेटे ने जीता स्वर्णपदक, जाने अचिंता शेउली की अनसुनी कहानी…

रविवार को भारत की ने वेटलिफ्टिंग से दो गोल्ड मेडल जितने में सफलता प्राप्त की। इसमे से एक गोल्ड मेडल 19 वर्ष के अचिंता शेउली ने 73 किलोग्राम भारवर्ग में 313 भार उठाकर इतिहास रचा दिया। अचिंता शेउली ने 73 किलोग्राम भारवर्ग में गोल्ड मेडल जीतने के लिए 313 किलोग्राम भार उठाकर अपनी जीत दर्ज की है।

यहां तक पहुंचने के लिए अचिंता शेउली को बहुत ही मुश्किलो का सामना करना पडा है। आपको बता दे की वर्ष 2013 में अचिंता शेउली ने वेटलिफ्टिंग के लिए तैयारी शुरू कर दि थी। वही एक रिपोर्ट के अनुसार परिवार की आर्थिक स्थिती खराब होने की वजह से अचिंता शेउली ठीक तरह से डाइट नही ले पाते थे।

और इसी के कारण अचिंता शेउली कई बार बीमार हो जाया करते थे। अचिंता शेउली के पिता जगत शेउली साइकिल रिक्शा चलाते थे और मजदूर का काम भी करते थे। वर्ष 2013 में अचिंता शेउली के पिता की अचानक मौत से परिवार के सामने बडा प्रश्न खडा हो गया था। पिता की मौत के बाद अंचिता के बडे भाई आलोक ने परिवार की जिम्मेदारी संभाली।

अचिंता शेउली की माँ पूर्णिमा भी घर का खर्च चलाने के लिए सिलाई का काम करती थी। उन्होंने वर्ष 2012 में एक जिल्हा स्तर पर रजत पदक जीतकर स्थानीय स्पर्धाओं में भाग लेना शुरू कर दिया था। इसके बाद वर्ष 2015 में अचिंता शेउली को आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट के ट्रायल में चुना गया था। अचिंता शेउली की क्षमताओं ने उन्हें उसी वर्ष भारतीय राष्ट्रीय शिविर में शामिल होने में मदद की।

अचिंता शेउली एवं उनकी मां का पुराना फोटो

अचिंता शेउली ने वर्ष 2016 और वर्ष 2017 में आर्मी स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट में अपना प्रशिक्षण पूर्ण करके वर्ष 2018 में वह राष्ट्रीय शिविर में आ गए थे। अचिंता शेउली का अबतक का करियर बेहद ही शानदार रहा है। वर्ष 2019 में अचिंता शेउली ने कॉमनवेल्थ वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था। यह सीनियर वर्ग में उनका पहला मेडल था। वर्ष 2021 में अचिंता शेउली ने जूनियर वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में रजत पदक जीत चुके है।

इसके अलावा अचिंता शेउली ने ताशकंद में आयोजित राष्ट्रमंडल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल अपने नाम किया था। वही कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 मे भारत को अभी तक सभी छह पदक वेटलिफ्टरों ने ही दिलाए है। कोरोना महामारी के बाद इस युवा खिलाडी ने 2021 में कॉमनवेल्थ सीनियर चैंपियनशिप में पहला स्थान हासिल किया था। और अब 2022 में वह कॉमनवेल्थ गेम्स में चैंपियन बन गए है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular