Wednesday, October 5, 2022
Homeअज़ब-गज़बजानिए स्कूल बस का कलर हमेशा क्यों होता है पीला?

जानिए स्कूल बस का कलर हमेशा क्यों होता है पीला?

हैरानी वाली बात है की भारत देश में ही नही बल्कि विदेशो में भी स्कूल बसो का रंग पीला है। दुनिया के किसी भी कोने में स्कूल बसो को पीले रंग में ही देखा गया है। इसके पीछे कई तरह के वैज्ञानिक कारण भी है। भारत देश में स्कूल बसो का रंग पीला होने के पीछे सुप्रीम कोर्ट का एक अहम फैसला है। स्कुल बसो को पीले रंग में रंगने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक साथ कई निर्देश जारी किए है।

आपको बता दे की, लाल रंग सबसे ज्यादा लोगो का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है। इसलिए पहले ही खतरे के निशान के रूप में लाल रंग का उपयोग किया जात है। लाल रंग के बाद अगर कोई रंग सबसे ज्यादा आकर्षित करता है तो वह पीला रंग है। पीले रंग को दूर से ही देखकर पहचाना जा सकता है। इसी वजह से स्कूल बस पीले रंग की नजर आती है। जीसकी वजह से बस की ओर लोगो का ध्यान बना रहे।

वही पीले रंग का लैटरल पेरीफेरल विजन लाल रंग की तुलना में लगभग सवा गुना ज्यादा होता है। इसिलिए लाल रंग से भी जल्दी पीले रंग को देखा जा सकता है। बता दे की, पीले रंग को बारिश, कोहरा या धुंध में भी सरल तरिके से पहचाना जा सकता है। स्कूल बसो को पीले रंग से रंगने का यह भी कारण है की पीले रंग की बस को आपातकालीन स्थिती में बचाया जा सके।

लैटरल पेरीफेरल विजन का मतलब है की जिसे कोने, किनारे या आस पास में भी आसानी से देखा जा सकता हो। और कोई इंसान बिल्कुल सामने की ओर देख रहा है और साइड से कोई पीले रंग की बस या पीले रंग की कोई भी वस्तु जा रही हो तो उसे आसानी पीले रंग का एहसास हो जाता है। अँधेरे वातावरण में भी पीला रंग आसानी से देखा जा सकता है।

वैज्ञानिको के अनुसार पीले कलर को लाल कलर की तुलना में 1.24 गुना ज्यादा अच्छे से दिखाई देता है। इसके साथ ही हर रंग की वेवलेंथ अलग होती है। सबसे ज्यादा वेवलेंथ लाल रंग की होती है। इसका मतलब लाल रंग अधिक दूरी से भी आसानी से दिखाई देता है। चुंकी लाल रंग का उपयोग खतरे के निशान के लिए किया जाता है। लाल रंग के बाद दूसरे नंबर पर पीला रंग आता है। इसिलिए स्कूल बस का रंग हमेशा पीला ही नजर आता है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular