Wednesday, October 5, 2022
Homeअज़ब-गज़बजानिए हर रेलवे ट्रेन के डिब्बे के पीछे क्यों होता हैं X...

जानिए हर रेलवे ट्रेन के डिब्बे के पीछे क्यों होता हैं X का चिन्ह

रेलवे के आखरी डिब्बे पर यानी लास्ट कोच पर एक क्रॉस ‘X’ का निशान होता है। क्या आपने कभी सोचा है की रेलवे के आखरी डिब्बे पर ‘X’ का निशान क्यो बना होता है? और इसका मतलब क्या है? भारतीय रेलवे द्वारा रेलवे मंडल में बनाए गए ज्यादातर संकेत रेल कर्मचारियो के लिए ही होते है। वैसे ही ‘X’ का संकेत हमेशा रेलवे के आखरी डिब्बे पर ही लिखा जाता है।

बता दे की रेलवे के आखरी डिब्बे पर ‘X’ का संकेत इसिलिए बनाया जाता है ताकी मौजुदा स्टेशन पर रेलवे कर्मयारियो को यह पता चल सके की पूरी रेलवे जा चुकी है। इसी से ये भी पता चलता है की रेलवे किसी अपघात का शिकार भी नही हुयी है। और एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन पर सही सलामत पहुंची है। बता दे की हर स्टेशन पर रेलवे कर्मचारी इस क्रॉस के निशान से ही रेलवे की जांच करते है।

इसके साथ ही आपने रेलवे के आखरी डिब्बे पर ‘LV’ भी लिखा देखा होगा। ‘X’ के संकेत के साथ ही एक बोर्ड और भी लगा होता है। उस बोर्ड पर ‘LV’ लिखा होता है। ‘LV’ का पुरा अर्थ ‘Last Vehicle’ होता है। इसका भी मतलब रेलवे का आखरी डिब्बा ही होता है। इससे भी रेलवे कर्मचारियो को इस बारे में संकेत मिलता है की वह रेलवे का आखरी डिब्बा है। रेलवे कर्मचारी ‘LV’ के संकेत देखते ही समझते है की रेलवे पूरी गुजर चुकी है।

‘LV’ से रेलवे कर्मचारियो पता चल जाता है की रेलवे का कोई भी डिब्बा पीछे नही छूटा है। और इसके अलावा अगर ‘X’ या ‘LV’ का संकेत रेलवे के पीछे दिखाई नही देता है, तो समझा जाता है की वह रेलवे किसी अपघात का शिकार हुयी है। और अपघात के कारण रेल्वे के कुछ डिब्बे पीछे छूट गए है। ऐसा मालूम होते ही इस पर तुरंत जांच शुरू कर दी जाती है।

आपको बता दे की रात के समय रेलवे के आखरी डिब्बे के पीछे एक लाल रंग की लाईट लगाई जाती है। जो की इस बात का ही संकेत देती है की यह रेलवे का आखरी डिब्बा है। कई बार खराब मौसम के कारण और अंधेरे के कारण रेलवे दिखाई नही देती है। मगर लाल रंग की चमकती लाईट दूर से ही देखी जा सकती है। वही लाल लाईट पीछे से आ रही रेलवे के लिए भी संकेत का काम करती है।

लाल लाईट को देखकर पीछे से आ रही रेलवे के ड्राइवर को अंदाजा लग जाता है की रेलवे उनसे कितनी दूरी पर है। तिनो संकेत को देखने के बाद अंत में निष्कर्ष यही निकलता है की भारतीय रेलवे में ‘X’, ‘LV’ और रेड लाईट, रेलवे सलामत गुजर चुकी है इसको पहचानने के लिए ही यह सब करते है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular